माँ की ममता जागी और चली गई चूल्हा हटाने, काल बनकर गिरा छज्जा, विज्ञान शिक्षिका की हुई मौत

रविवार और सोमवार की दरमियानी रात चली जोरदार आंधी दाउदनगर के पटेल इंटर स्कूल में कार्यरत विज्ञान शिक्षिका बेबी कुमारी के लिए जानलेवा साबित हुई । इस आंधी में टूटकर गिरे छत की रेलिंग से उनकी मौत हो गई।

दाउदनगर, औरंगाबाद, बिहार।

रविवार और सोमवार की दरम्यानी रात्रि में आई तूफान ने जम्मू कश्मीर में तैनात सीआरपीएफ के जवान ब्रजेश कुमार सिंह उर्फ सिंटू सिंह के जीवन का उजाला भी उड़ा ले गया। इस आंधी में उनकी शिक्षिका पत्नी बेबी कुमारी की मौत हो गई।


मां की ममता, चूल्हा भीगने से बचाने में गई जान

जब रेलिंग टूटकर गिरा था उस दौरान बेबी कुमारी अपने छोटे बच्चे के लिए दूध गर्म करने के लिए रखे गए मिट्टी के चूल्हे को हटाने गई थी। उन्हें डर था कि पानी में मिट्टी का चूल्हा भींग जाएगा तो वे आज रात अपने बच्चे के लिए दूध गर्म नहीं कर पाएंगी। और यही मां की ममता के कारण वे आंधी के परवाह किये बगैर छत पर गई और टूटकर गिरते रेलिंग की शिकार हो गईं।

मरने से पहले खुद की पति को फोन

बेबी कुमारी जोकि पटेल इंटर विद्यालय में विज्ञान की शिक्षिका थी। आंधी में छत से गिरे रेलिंग से बुरी तरह से घायल हो गई, जिनकी अनुमंडल रेफरल हॉस्पिटल में इलाज के दौरान मौत हो गई। बेबी कुमारी मरने से पहले तक काफी संघर्ष किया था। उन्होंने खुद ही अपने पति और अन्य रिश्तेदारों को फोन करके घटना की जानकारी दी और फिर बेहोश हो गई। परिजनों ने आनन फानन में उन्हें दाउदनगर स्थित अनुमंडल रेफरल हॉस्पिटल में ले गए लेकिन तबतक उनकी मौत हो चुकी थी।

मृतिका के दो बच्चे हैं

मृत शिक्षिका बेबी कुमारी के दो बच्चे हैं । जिसमें आर्यन 3 साल का और 2 वर्ष का अंश शामिल हैं। इतने छोटे बच्चों की देखभाल की परवरिश को लेकर भी परिजन चिंतित हैं।

2014 में बनी थी विज्ञान शिक्षिका

यादव महासभा के अध्यक्ष नागेंद्र सिंह ने बताया कि मृतिका बहुत ही पढ़ी लिखी और सुशील थी। वे वर्ष 2014 में पटेल इंटर विद्यालय दाउदनगर में विज्ञान शिक्षिका के रूप में योगदान दिया था, तब से लेकर अभी तक वहीं कार्य कर रही थी। मृतिका बेबी कुमारी के भाई संजीत कुमार भी शिक्षक हैं और पिताजी जितेंद्र कुमार बालिका इंटर स्कूल दाउदनगर से प्रधानाध्यापक के पद से सेवानिवृत्त हुए थे। नागेंद्र सिंह ने जिला प्रशासन से शिक्षिका के परिजनों को 20 लाख रुपये मुआवजा राशि की मांग की है। जिससे कि उनके दोनों बच्चों का भविष्य सुरक्षित किया जा सके।

घटना से मर्माहत हुए लोग

शिक्षिका बेबी कुमारी और उनका परिवार दाउदनगर अनुमंडल क्षेत्र में काफी लोकप्रिय था। इस घटना की सूचना जैसे ही लोगों को मिली, लोग अनुमंडल हॉस्पिटल की तरफ दौड़ लगा दिए। वहां पहुंचे परिजनों का रो रो कर बुरा हाल था और हॉस्पिटल का माहौल गमगीन बना हुआ था।

पति के इंतजार में रखी गई है लाश

मृत शिक्षिका बेबी कुमारी के शव को फिलहाल उनके घर में सुरक्षित रखा गया है । उनके अंतिम संस्कार में भाग लेने के लिए उनके पति का इंतजार हो रहा है। उनके पति श्री बृजेश कुमार सिंह उर्फ सिंटू सिंह जो कि जम्मू कश्मीर में सीआरपीएफ के जवान के रूप में तैनात हैं। हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार वही अपनी पत्नी का अंतिम संस्कार करेंगे । इस कारण से शव को फिलहाल घर पर ही सुरक्षित रखा गया है।

जानकारी होने पर पहुंचे लोग

इस घटना को सुनकर घटनास्थल पर तथा अनुमंडल अस्पताल में काफी लोग पहुंचे। यादव महासभा के अध्यक्ष नगेंद्र सिंह ,छात्र नेता सुमित यादव ,सामाजिक कार्यकर्ता इंजीनियर विकास कुमार ,सुमित कुमार सोमी, व्यापार मंडल अध्यक्ष सुजीत कुमार सिंह उर्फ चुन्नू यादव, युवा राजद के प्रदेश सचिव अरुण कुमार यादव ,गौतम कुमार ,कौशल कुमार, रजनीश कुमार, पपलू कुमार के अलावे इस घटना को सुनकर शिक्षक भी उनके घर पहुंचकर दुःख में शामिल हुए। जिनमें पटेल इंटर विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक विजय कुमार, शिक्षक श्रीनिवास मंडल, डॉ अनिल कुमार मंडल , अंबुज कुमार , गोपेंद्र कुमार सिन्हा गौतम आदि प्रमुख हैं।

#बबकमरकमत #daudnagar #दउदनगरबबकमर #AurangabadBihar #वजञनशकषककमत #दउदनगर #औरगबद

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

© 2023 by The Silence Media